दर्द दोस्ती शायरी

Dost Sad Shayari | Friends are the people that we select willingly unlike family members and relatives, and they are very precious to us. But sometimes our friends treat us like hell and they leave us at the time where we needed them the most. So today my sad shayari collection is for those losers who left their precious friends for no reason. Shayari on Maut ki khwaahish

ये दोस्ती चिराग है जलाऐ रखना
ये दोस्ती खुशबु है महकाऐ रखना,
हम रहें हमेशां आपके दिल में,
हमेशां इतनी जगह बनाऐ रखना

Ye dosti chiraag hai jalaaai rakhnaa
Ye dosti khushabu hai mahkaaai rakhnaa,
ham rahen hameshaan aapke dil men,
hmeshaan etni jagah banaaai rakhnaa

सागर ना हो तो कश्ती​ किस काम की
​मजाक​ ना हो तो मस्ती​ किस काम की
दोस्ती के लिए तो कुर्बान है ये ज़िंदगी
अगर ​दोस्त​ ही ना रहे तो फिर ये जिंदगी​ किस काम कीं

Sagar Naa Ho To Kashti Kis Kaam Ki
Majak Naa Ho To Masti Kis Kaam Ki
Dosti Ke Liye To Kurbaan Hai Ye Zindagi
Agar Dost Hi Naa Rahe To Fir Ye Zindagi Kis Kaam Ki

दोस्त वो नहीं
जो हम पे जान देते है या हमे मुस्कान देते है
दोस्त तो वो है
जो पानी में घुला हुआ आंसू भी पहचान लेते है

Dost Vo Nahi
Jo Hum Pe Jaan Dete Hai Ya Hume Muskaan Dete Hai
Dost To Vo Hai
Jo Paani Me Ghula Hua Aansu Bhi Pehchan Lete Hai
Unheard Dil Wali Shayari

तूफान में हम बिखरते चले गए
तन्हाई की गहराई में उतरते चले गए
जन्नत थी हर सुबह-शाम जिन दोस्तों तो के साथ
एक-एक करके वो सब दोस्त बिछड़ते चले गए

Toofan Me Ham Bikharte Chale Gaye
Tanhaai Ki Gehraai Me Utarte Chale Gaye
Jannat Thi Har Subha-Shyaam Jin Dosto Ke Saath
Ek-Ek Karke Vo Sab Dost Bichadte Chale Gaye

संग रहते यूँ ही समय निकल जायेगा
तन्हाइयों में कौन किसको याद आयेगा
जी लो इस पल को जब सब साथ हैं यारों
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले जायेगा

Sang Rehte Yun Hi Samay Nikal Jaayega
Tanhaaiyo Me Kaun Kisko Yaad Aayega
Jee Lo Is Pal Ko Jab Saath Hai Yaaro
Kal Kya Pata Waqt Kaha Le Jaayega
Sache Dosto ke liye Shayari

तुमसे दोस्ती करने का हिसाब ना आया
मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया
हम तो जागते रहे तुम्हारे ही खयालो में
और तुम्हे सोकर भी हमारा ख्वाब ना आया

Tumse Dosti Karne Ka Hisaab Naa Aayae
Mere Kisi Bhi Sawal Ka Jawab Naa Aaya
Hum To Jaagte Rehte Hai Tumhaare Hi Khayalo Me
Aur Tumhe Sokar Bhi Humara Khwaab Na Aaya

नहीं आती खबर किसी जंग की
अब दुश्मन भी कहने लगे
निपट आओ पहले तुम दोस्तों से

Nahi Aati Khabar Kisi Jang Ki
Ab Dushman Bhi Kehne Lage
Nipat Aao Pehle Tum Dosto Se
Aankho par Shayari

तूफानों ​की दुश्मनी से ना बचते तो खैर थी​
​साहिल पर दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​

Toofano Ki Dushmani Se Naa Bachte To Khair Thi
Sahil Par Dosto Ke Bharam Ne Dubo Diya

गुनाह करके सजा से डरते है
ज़हर पी के दवा से डरते है
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है

Gunaah Karke Saza Se Darte Hai
Jehar Pee Ke Dawa Se Darte Hai
Hum To Dosto Ke Khafa Hone Se Darte Hai
Emotional Hindi Shayari

कोई दोस्त होता तो हमे मनाता
हम रोते तो हमे हँसता
हमे नहीं जीनी पड़ती ये खाली-खाली ज़िन्दगी
अगर कोई दोस्त हमारा साथ निभाता

Koi Dost Hota To Hume Manata
Hum Rote To Hame Hansaata
Hume Nahi Jeeni Padti Ye Khali Khali Zindagi
Agar Koi Dost Humara Sath Nibhata

देखा है हमने बहुत बार आजमा कर
दे जाते है लोग धोखा बेहद करीब आकर
बहुत समझाती है दुनिया मगर दिल नहीं मानता
क्या आप भी भूल जाओगे हमे अपना दोस्त बनाकर

Dekha Hai Humne Bahut Baar Aazma Kar
De Jaate Hai Log Dokha Behad Kareeb Aakar
Bahut Samjhati Hai Duniya Magar Dil Nahi Maanta
Kyaa Aap Bhi Bhool Jaaoge Hume Apna Dost Banakar

और कभी तुझे ना भूलने का इरादा करते हैं,
मेरा रब मेरी नहीं किसी और की तो सुन ही लेगा ना,
ये सोच कर हर इक से तेरे लिए दुआ करवाया करते हैं

Aur kabhi tujhe naa bhulne kaa eraadaa karte hain,
Meraa rab meri nahin kisi aur ki to sun hi legaa naa,
Ye soch kar har ek se tere lia duaa karvaayaa karte hain

वो मुझे चाहे मिल ही जाऐ जरूरी तो नहीं,
ये कुछ कम है कि बसा है मेरी साँसो में,
वो सामने हो मेरी आँखो के जरूरी तो नहीं

Vo mujhe chaahe mil hi jaaai jaruri to nahin,
Ye kuchh kam hai ki basaa hai meri saanso men,
Vo saamne ho meri aankho ke jaruri to nahin

क्या नशा है इश्क आज तक समझ ना पाये हम,
उन नशीली आँखों में कहीं हो ना जाऐं गुम,
युँ तो इश्क समझ नहीं आता ना जाने क्या बला थी ये,
कि जुदा होने पे उनकी ये आँखे हो गई है नम..

Kyaa nashaa hai eshk aaj tak samajh naa paaye ham,
Un nashili aankhon men kahin ho naa jaaain gum,
Yun to eshk samajh nahin aataa naa jaane kyaa balaa thi ye,
Ki judaa hone pe unki ye aankhe ho gayi hai nam..

युँही बे सबाब ना फिरा करो,
कोई शाम घर भी रहा करो..
वो गज़ल की सच्ची किताब है,
उसे छुपके-छुपके पड़ा करो..
मुझे इश्तिहार सी लगती हैं..
ये महोब्बतों की कहनीयाँ..
जो सुना नहीं वो कहा करो..
जो कहा नहीं वो सुना करो.

Yunhi be sabaab naa phiraa karo,
Koi shaam ghar bhi rahaa karo..
Vo gajal ki sachchi kitaab hai,
Use chhupke-chhupke padaa karo..
Mujhe eshtihaar si lagti hain..
Ye mahobbton ki kahniyaan..
Jo sunaa nahin vo kahaa karo..
jo kahaa nahin vo sunaa karo.

मंजिलों से अपनी दूर ना जाना..
रास्ते की परेशानियों से टूट ना जाना..
जब भी जरूरत हो जिन्दगी में किसी अपने की..
हम अपने हैं ये भूल ना जाना

Manjilon se apni dur naa jaanaa..
Raaste ki pareshaaniyon se tut naa jaanaa..
Jab bhi jarurat ho jindgi men kisi apne ki..
Ham apne hain ye bhul naa jaanaa

अगर जो दिल की सुनो तो हार जाओगे..
हम जैसा प्यार फिर कहाँ से पाओगे..
जान देने की बात को हर कोई करता है..
जिन्दगी बनाने वाला कहाँ से लाओगे..
जो इक नज़र देखोगे हमें..
हर तरफ हमको ही पाओगे..
यकीं अपनी चाहत का इतना है मुझे..
मेरी आँखो में झाँकोगे और लौट आओगे..
मेरी यादों के समंदर में जो डूब गऐ तुम..
कहीं जाना भी चाहोगे तो जा नहीं पाओगे

Agar jo dil ki suno to haar jaaoge..
Ham jaisaa pyaar phir kahaan se paaoge..
Jaan dene ki baat ko har koi kartaa hai..
Jindgi banaane vaalaa kahaan se laaoge..
Jo ek najar dekhoge hamen..
Har taraph hamko hi paaoge..
Yakin apni chaahat kaa etnaa hai mujhe..
Meri aankho men jhaankoge aur laut aaoge..
Meri yaadon ke samandar men jo dub gai tum..
Khin jaanaa bhi chaahoge to jaa nahin paaoge

तेरे गम को अपनी रूह में उतार लूँ..
जिन्दगी तेरी चाहत में सवार लूँ..
मुलाकात हो तुझ से कुछ इस तरह..
तमाम उमर बस इक मुलाकात में गुजार लूँ

Tere gam ko apni ruh men utaar lun..
Jindgi teri chaahat men savaar lun..
Mulaakaat ho tujh se kuchh es tarah..
Tamaam umar bas ek mulaakaat men gujaar lun

वो कहते हैं दिल पे भरोसा इतना नहीं करते,
हम कहते हैं महोब्बत में सोचा नहीं करते,
वो कहते हैं नज़रों से दूर पर दिल के पास हुँ,
हमने कहा सपनो से दिल को बहलाया नहीं करते

Vo kahte hain dil pe bharosaa etnaa nahin karte
Ham kahte hain mahobbat men sochaa nahin karte,
Vo kahte hain najron se dur par dil ke paas hun,
Hamne kahaa sapno se dil ko bahlaayaa nahin karte

अपनी खुशीयां लुटा कर उस पे कुर्बान हो जाऊँ,
काश कुछ दिन उसके शहर में महमान हो जाऊँ,
वो अपना नायाब दिल मुझ को दे दें
……………….और फिर वापस माँगे
मै मुक्कर जाऊँ और बेईमान हो जाऊँ

Apni khushiyaan lutaa kar us pe kurbaan ho jaaun,
Kaash kuchh din uske shahar men mahmaan ho jaaun,
Vo apnaa naayaab dil mujh ko de den
Aur phir vaapas maange
Mai mukkar jaaun aur beimaan ho jaaun

ना जाने क्यों वो हमसे मुस्कुरा के मिलते हैं,
अन्दर के सारे गम छुपा के मिलते हैं,
जानते हैं आँखे सच बोल जाती हैं,
शायद इसी लिए वो नज़र झुका के मिलतें हैं …

Naa jaane kyon vo hamse muskuraa ke milte hain,
Andar ke saare gam chhupaa ke milte hain,
Jaante hain aankhe sach bol jaati hain,
Shaayad esi lia vo najar jhukaa ke milten hain …

सागर ना हो तो कश्ती​ किस काम की
​मजाक​ ना हो तो मस्ती​ किस काम की
दोस्ती के लिए तो कुर्बान है ये ज़िंदगी
अगर ​दोस्त​ ही ना रहे तो फिर ये जिंदगी​ किस काम कीं

Sagar Naa Ho To Kashti Kis Kaam Ki
Majak Naa Ho To Masti Kis Kaam Ki
Dosti Ke Liye To Kurbaan Hai Ye Zindagi
Agar Dost Hi Naa Rahe To Fir Ye Zindagi Kis Kaam Ki

दोस्त वो नहीं
जो हम पे जान देते है या हमे मुस्कान देते है
दोस्त तो वो है
जो पानी में घुला हुआ आंसू भी पहचान लेते है

Dost Vo Nahi
Jo Hum Pe Jaan Dete Hai Ya Hume Muskaan Dete Hai
Dost To Vo Hai
Jo Paani Me Ghula Hua Aansu Bhi Pehchan Lete Hai
Unheard Dil Wali Shayari

तूफान में हम बिखरते चले गए
तन्हाई की गहराई में उतरते चले गए
जन्नत थी हर सुबह-शाम जिन दोस्तों तो के साथ
एक-एक करके वो सब दोस्त बिछड़ते चले गए

Toofan Me Ham Bikharte Chale Gaye
Tanhaai Ki Gehraai Me Utarte Chale Gaye
Jannat Thi Har Subha-Shyaam Jin Dosto Ke Saath
Ek-Ek Karke Vo Sab Dost Bichadte Chale Gaye

संग रहते यूँ ही समय निकल जायेगा
तन्हाइयों में कौन किसको याद आयेगा
जी लो इस पल को जब सब साथ हैं यारों
कल क्या पता वक़्त कहाँ ले जायेगा

Sang Rehte Yun Hi Samay Nikal Jaayega
Tanhaaiyo Me Kaun Kisko Yaad Aayega
Jee Lo Is Pal Ko Jab Saath Hai Yaaro
Kal Kya Pata Waqt Kaha Le Jaayega
Sache Dosto ke liye Shayari

तुमसे दोस्ती करने का हिसाब ना आया
मेरे किसी भी सवाल का जवाब ना आया
हम तो जागते रहे तुम्हारे ही खयालो में
और तुम्हे सोकर भी हमारा ख्वाब ना आया

Tumse Dosti Karne Ka Hisaab Naa Aaya
Mere Kisi Bhi Sawal Ka Jawab Naa Aaya
Hum To Jaagte Rehte Hai Tumhaare Hi Khayalo Me
Aur Tumhe Sokar Bhi Humara Khwaab Na Aaya

नहीं आती खबर किसी जंग की
अब दुश्मन भी कहने लगे
निपट आओ पहले तुम दोस्तों से

Nahi Aati Khabar Kisi Jang Ki
Ab Dushman Bhi Kehne Lage
Nipat Aao Pehle Tum Dosto Se
Aankho par Shayari

तूफानों ​की दुश्मनी से ना बचते तो खैर थी​
​साहिल पर दोस्तों के भरम ने डुबो दिया​

Toofano Ki Dushmani Se Naa Bachte To Khair Thi
Sahil Par Dosto Ke Bharam Ne Dubo Diya

गुनाह करके सजा से डरते है
ज़हर पी के दवा से डरते है
दुश्मनो के सितम का खौफ नहीं हमे
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है

Gunaah Karke Saza Se Darte Hai
Jehar Pee Ke Dawa Se Darte Hai
Hum To Dosto Ke Khafa Hone Se Darte Hai
Emotional Hindi Shayari

कोई दोस्त होता तो हमे मनाता
हम रोते तो हमे हँसता
हमे नहीं जीनी पड़ती ये खाली-खाली ज़िन्दगी
अगर कोई दोस्त हमारा साथ निभाता

Koi Dost Hota To Hume Manata
Hum Rote To Hame Hansaata
Hume Nahi Jeeni Padti Ye Khali Khali Zindagi
Agar Koi Dost Humara Sath Nibhata

देखा है हमने बहुत बार आजमा कर
दे जाते है लोग धोखा बेहद करीब आकर
बहुत समझाती है दुनिया मगर दिल नहीं मानता
क्या आप भी भूल जाओगे हमे अपना दोस्त बनाकर

Dekha Hai Humne Bahut Baar Aazma Kar
De Jaate Hai Log Dokha Behad Kareeb Aakar
Bahut Samjhati Hai Duniya Magar Dil Nahi Maanta
Kyaa Aap Bhi Bhool Jaaoge Hume Apna Dost Banakar

About Sunil Yadav

Check Also

300+ New Year Wishes and Messages for 2021

New Year’s Greetings It is possible that you have enjoyed some wonderful memories from the previous …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *